कितने सारे अरमान, इससे बढ़कर फरीज़े, आ मिलते हैं, जब सोने का हो समय
फिर भी घसीटता लाऊँ नींद को, बस हुज़ूर, आपका हाथ हो हमारे हाथ में