‘मैं’ और ‘तुम’, लफ्ज़ हैं ये, कितने खोखले और अकेले
‘हम’ की पनाह अगर मिल जाए इन्हे, सफर सुहाना कोई शुरू हो जाये