ऐसी कोई चीज नहीं इस जहान में, जो हम दीवाने बाँट ना पाये
पर कम्बख्त खामोशी से कैसे जेले, उसे बाँट ने कोई तरकीब हो, तो सुनाये