जकड़ता रहा, सुलगता रहा, रिश्तों की आड़ में यूं ही टूटथा गया
बिछड़े सभी बारी बारी, मेरा प्याला तू अकेला साथ निभाता गया