गुजर गया ये पल भी, गुजरा हुआ पल को ढूंढते
आइन्दा जो भी पल गुजरे, गुजरे बस, गुलज़ार साहब के लफ्जों को चाटते