ये शाम कुछ पहचाना सा लगता हैं, ये खाली हाथ जाने न पाए
इससे पहले के चाहतें बन जाए यादें, ये शाम यूँ ही डलने न पाए