बिछड़ के चले जब हम, एक आँसू बोया था, आँगन में तेरे
के ये आँसू बड़के बन जाये ख्वाइश, हमें फिर से करीब लाने का