निखर गया चेहरा, ठहर गया ग़मों का घेरा
सज गया चिरागों का पहरा, ले आया दिवाली का सेहरा