कोई यकीन में, तो कोई ना-यकीन में खुदा ढूंढ़ता
गाफिल ये, कभी ख़ुदाई में भी ख़ुदा ढूंढ़ता