करीब कितना भी आ जाये, एक दूरी फिर भी रह जाए
दूर कितना भी चले जाए, एक आरज़ू यूँही छेड़ता जाए