था ऐसा भी आलम, ख़याल-नुमा में सारा दिन ता गुज़र
अर्से हुए, न वो दिन करीब आया, न वो ख़याल