हंसी आपकी, फिसल के लिपट गई जो हमारे क़दमों से
कदम बदमाश, अब चलने लगे सिर्फ आपके इशारों पर